मुख्य समाचार
राजनाथ को टक्कर देने के लिए कांग्रेस से पीठाधीश्वर ने कराया नामांकन भाजपा सांसद और प्रत्याशी ने चुनाव की पारदर्शिता पर उठाए सवाल राहुल गांधी पर दर्ज हुआ केस, जानिए क्या था मामला BJP सांसद पर चला डीएम का डंडा, बूथ में एंट्री करने पर रोक बेटे संग वर्कआउट करती नज़र आईं शिल्पा शेट्टी, वीडियो वायरल कांग्रेस का यह दिग्गज नेता बसपा में हुआ शामिल,मायावती ने इस सीट से दिया टिकट.. अधिकारियों की लापरवाही से गोमती में प्रदूषण फैला रहे श्रद्धालु बोर्ड परीक्षार्थियों का इंतजार खत्म, इस दिन आ रहा रिजल्ट यहां तो स्वच्छ भारत मिशन को निगल गया भ्रष्टाचार का दानव स्टंट करते हुए नज़र आईं दिशा, वीडियो वायरल हॉट बिकनी अवतार में नज़र आईं मंदिरा बेदी #VoteKaro: दूसरे चरण में इन दिग्गजों ने किया मतदान, किरण बेदी ने लाईन में लगकर दिया वोट रैंकिंग में गिरावट की वजह खोजेगा केजीएमयू प्रशासन, 16 सदस्यीय समिति गठित 15 नहीं बल्कि 16 खिलाड़ियों को विश्व कप में ले जाना चाहते थे शास्त्री मैनपुरी में टैक्टर ट्राली पलटने से तीन लड़कियों की मौत, एक दर्जन से अधिक घायल यहां ईवीएम में खराबी से परेशान हुए मतदाता  कुशीनगर में उड़न दस्ते ने बरामद किये 1.20 लाख रुपये सपा ने पूनम सिन्हा को घोषित किया लखनऊ लोकसभा सीट से अपना प्रत्याशी सपा-बसपा गठबंधन पर अखिलेश यादव ने दिया बड़ा बयान जिसका वोटर लिस्ट में नाम नहीं वह नहीं कर सकता मतदान : मुख्य निर्वाचन अधिकारी बैन हटते ही हमलावर हुई बहन जी, पूछा - इतना मेहरबान क्यों?

कहीं आप भी तो कार्पल टनल सिंड्रोम से पीड़ित नहीं


DEEP KRISHAN SHUKLA 14/04/2019 11:46:18 76 Views


New Delhi. कामकाजी लोगों खास तौर से महिलाओं में एक नई बीमारी ने घर करना शुरू कर दिया है जिसके चलते रात को आराम करते समय उनके हाथ सुन्न होने जैसी समस्या होने लगती है। ब्रिटेन में हुए एक शोध में पाया गया कि पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं इस बीमारी 'कार्पल टनल सिंड्रोम' (सीटीएस) की ज्यादा शिकार होती हैं। यह बीमारी कंप्यूटर पर 8-9 घंटे काम करने से होती है। 

Now you do not even suffer from Carpal Tunnel syndrome,
कार्पल टनल सिंड्रोम नाम की यह बीमारी जिसे लगती है सबसे पहले उसकी हाथों की उंगलियों में दर्द शुरू होता है। यह दर्द उंगलियों से बढ़ते हुए कलाई और फिर बांह तक पहुंच जाता है।

चिकित्सा विशेषज्ञों की माने तो कलाई में मौजूद मिडियन नर्व के दबने से यह समस्या उत्पन्न होती है जो लगातार टाइपिंग करने के साथ बढ़ती रहती है। 

Now you do not even suffer from Carpal Tunnel syndrome,
एक खास आयु वर्ग के लोग इस बीमारी के ज्यादा शिकार होते है। विशेष रूप से 18 से 35 आयु वर्ग के लोग जो कंप्यूटर और लैपटाप पर ज्यादा काम करते हैं वह इस बीमारी से अधिक ग्रसित होते हैं। 
हाल के दिनों में इस बीमारी से पीड़ित होने वालों की संख्या में खासा इजाफा हो रहा है। ब्रिटेन में 1 लाख लोगों पर किए गए एक शोध के दौरान यह पता चला कि 120 महिलाओं और 60 पुरूषों में इस बीमारी से ग्रसित हैं। 

Now you do not even suffer from Carpal Tunnel syndrome,
  ऐसे करें बचाव
कुछ आसान से उपाय अपना कर इस अजीबोगरीब बीमारी की संभावनाओं को काफी हद तक कम किया जा सकता है। विशेषज्ञों की माने तो टाइपिंग करते समय एक घंटे के बाद पांच मिनट का ब्रेक लेने से यह बीमारी नहीं होती। इसके अलावा प्रतिदिन कम से कम पांच बार हाथ खोलने और बंद करने का व्यायाम 10 मिनट तक करके भी इस बीमारी से बचा जा सकता है। 

यह भी पढ़े...मिनटों के इस उपाय से पाएं पिंपल से छुटकारा

 

 

 

 

Web Title: Now you do not even suffer from Carpal Tunnel syndrome, ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया