मुख्य समाचार
कुंभ में कल्पवासियों का कल्पवास शुरु, ये हैं कठिन नियम दुनिया के सबसे भरोसेमंद देशों में शामिल हुआ भारत अखिलेश-डिंपल के खिलाफ अभद्र टिप्पणी से भड़के सपाई, थाने का किया घेराव सोशल मीडिया पर खान-पान के फोटो वीडियो शेयर किए तो एकाउंट होगा ब्लाक बेखौफ बदमाशों ने ठेकेदारों को मारी गोली  BJP विधायक का सिर कलम करने वाले को मिलेगा 50 लाख का इनाम, मचा हड़कंप तो क्या सचमुच हैक हो सकती है ईवीएम अन्ना हजारे बोले, लोकपाल लागू होता तो राफेल घोटाला सामने नहीं आता मद्रास हाईकोर्ट ने जनरल कोटा पर केन्द्र को जारी किया नोटिस सपा-बसपा गठबंधन पर हमलावर हुए अमर सिंह, कहा- 3 C की थ्योरी पर हुआ... दोस्त के गम में दुनिया के सबसे क्यूट कुत्ते Boo की मौत कुंभ के प्रवासी कनेक्शन से देश के विकास की संभावनाओं की तलाश ...तो फिर कांग्रेस से बनेगी किंग! इस हॉट एक्ट्रेस का नाम पहुंचा हाईकमान के पास कर्नाटक: रिजॉर्ट में बागी कांग्रेस विधायक ने की मार पीट, एक MLA की हालत गंभीर नेपाल व भूटान यात्रा के लिए अब आधार कार्ड वैध दस्तावेज कुंभ का टायलेट कैफे​टेरिया बना लोगों के आकर्षण का केन्द्र

इस ब​ड़े नेता ने कराया मायावती व अखिलेश का गठबंधन,बीजेपी में छाई बैचेनी


RAGHVENDRA CHAURASIA 12/01/2019 18:22 PM 953 Views


Lucknow. 2019 के मुकाबला के लिए सभी राजनीतिक दल तेजी के साथ तैयारियों में जुटे गए हैं। शनिवार को राजधानी लखनऊ में सपा -बसपा का गठबंधन हो गया है। जिसके बाद प्रदेश व देश का सियासी पारा बदल गया है। दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। इसके साथ ही 4 सीट दूसरे दलों के लिए छोड़ दिया है। सपा-बसपा का गठबंधन 76 सीटों पर चुनाव लड़ेगा।

Is Bade Neta Ne Karaya Mayawati Va Akhilesh Ka Gathbandhan

   वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

  समाजवादी विचारधारा के नायक थे लोहिया 

इतिहास में दर्ज है कि एक बार समाजवादी विचारधारा के नेता डॉ राम मनोहर लोहिया ने भी एक ऐसी कोशिश की थी। डॉ लोहिया ने दलितों के मसीहा डॉ भीम राव आंबेडकर को पत्र लिखकर कहा था कि वो सिर्फ अनुसूचित जातियों के नेता तक सीमित न रहें बल्कि समाज में हर वर्ग की आवाज बनें। समाजवादी नेता लोहिया ने यह पत्र 10 दिसंबर 1955 में लिखी थी। 

Is Bade Neta Ne Karaya Mayawati Va Akhilesh Ka Gathbandhan

  डॉ लोहिया व भीम राव आंबेडकर की मुलाकात नहीं हो पाई थी

आज नहीं कई दशकों पूर्व समाजवादी व दलित विचारधारा के नेता एक-दूसरे को मन से मानते थे। 20 अक्टूबर 1956 को दोनों नेताओं के बीच मुलाकात होनी थी। लेकिन किसी कारणवश दोनों नेताओं की मुलाकात नहीं हो पाई थी। डॉ लोहिया व बाबा साहेब आगे मिल पाते उसे डेढ़ महीने बाद 6 दिसंबर 1956 को उनका स्वर्गवास हो गया। यहीं दोनों नेताओं के विचार से काशीराम व मुलायम सिंह ने भी 1993 में गठबंधन किया था,और अब मायावती व अखिलेश यादव का गठबंधन हो गया है। 

यह भी पढ़ें...मायावती को पीएम बनाने के सवाल पर अखिलेश यादव ने दिया ये जवाब,विपक्षियों में मचा कोहराम

 

 

Web Title: Is Bade Neta Ne Karaya Mayawati Va Akhilesh Ka Gathbandhan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया